स्टीविया क्या हैं और यह डायबिटीज में कैसे लाभकारी होता हैं?

स्टीविया के पौधे से डायबिटीज में होने वाले फायदे.

आज इंडिया में हर पांचवे व्यक्ति को डायबिटीज की बीमारी है। वैसे तो डायबिटीज को दूर करने के लिए कई तरह के उपचार मौजूद हैं। लेकिन डायबिटीज के रोगियों में मीठा खाने की चाहत हमेशा बनी रहती हैं। ऐसे में डायबिटीज के मरीज़ मीठा खाने की अपनी चाहत को कैसे पूरा कर सकते हैं? इसका जवाब हैं स्टीविया के पौधा।

यह एक हर्बल पौधा हैं जो मीठास से भरा हुआ हैं। इसमें गन्ने और शहद से भी ज्यादा मीठास पायी जाती हैं। स्टीविया के पत्तों का सेवन डायबिटीज के मरीज़ कर सकते हैं और मज़े की बात यह है की इससे डायबिटीज के मरीज़ को कोई नुकसान नहीं होता हैं।

स्टीविया पैनक्रियाज़ से इन्सुलिन को रिलीज करता हैं। यह पौधा डायबिटीज के रोगियों के लिए लाभकारी हैं। स्टीविया को नेचुरल शुगर वाला पौधा कहा जाता हैं।

आखिर स्टीविया क्या हैं?

स्टीविया एक प्रकार का पौधा हैं, जो चीनी के मुकाबले कई गुना ज्यादा मीठा होता हैं। यह पौधा नार्थ अमेरिका में ज्यादा उगता हैं। इसके पत्तों का इस्तेमाल मनुष्यों द्वारा हज़ारों सालों से किया जा रहा हैं। इसमें स्टेवियोसाइड नामक तत्व पाया जाता हैं जो कैलोरी फ्री होता हैं। इसे खाने से बॉडी में शुगर का लेवल नहीं बढ़ता हैं। वैसे तो नेचुरल मीठास पैदा करने वाली इस पौधे की टेबलेट्स हर जगह आसानी के साथ मिल जाती हैं। इसके पत्ते से ही शुगर फ्री स्वीटनर का निर्माण किया जाता हैं।

डायबिटीज के मरीज़ स्टीविया का ऐसे करे इस्तेमाल :-

1. पिछले कई सदियों से स्टीविया का स्वीटनर बनाया जाता रहा हैं। आज इसका इस्तेमाल मेडिसिन के रूप में किया जाने लगा हैं। दुनियाभर के कई देशों ने इसे नेचुरल शुगर के रूप में स्वीकार किया हैं।

2. अगर डायबिटीज के रोगी को मीठा खाने का मन करे तो वह स्टीविया के पत्तियों को चबा सकता हैं। यह चीनी के मुकाबले कंही अधिक मीठा होने के बावजूद मधुमेह रोगी को कोई नुकसान नहीं पहुचाता हैं।

3. भोजन करने से 20 मिनट पहले या भोजन करने के 20 मिनट बाद स्टीविया की पत्तियों को खाना चाहिए। तब यह और भी ज्यादा फायदा पहुचायेगा।

4. अगर मधुमेह के रोगी ने अन्य मिठाई का सेवन कर लिया हैं तो उसके असर को कम करने के लिए मीठा खाने के तुरंत बाद उन्हें इस आयुर्वेदिक पौधे की पत्तियों को चबाना चाहिए।

5. जैसा की आप जान चुके हैं की स्टीविया के पत्तों में कितनी ज्यादा मीठास होती हैं। मीठा होने के बावजूद यह शुगर के लेवल को कम करता हैं और डायबिटीज को बढ़ने से भी रोकता हैं।

6. स्टीविया का पौधा चीनी का बेहतरीन विकल्प हैं। साथ ही यह डायबिटीज पेशेंट के लिए एकमात्र आर्टिफीसियल स्वीटनर हैं। इसमें चीनी की तरह फैट और कैलोरी नहीं होती हैं।

चीनी (शक्कर/शुगर) खाने के फायदे।

7. स्टीविया न सिर्फ डायबिटीज के लिए लाभकारी होता हैं। बल्कि इसके सेवन से हाइपरटेंशन, ब्लड प्रेशर, कब्ज़ की समस्या, दिल की बीमारियाँ, स्किन प्रॉब्लम्स, पेट की जलन, गैस, मोटापे की समस्या, दांतों की समस्या, चेहरे की झुर्रियां आदि से भी निजात मिलती है।

8. आपको जानकर ताज्जुब होगा की इसमें गन्ने और शहद के मुकाबले 300 गुना ज्यादा मीठास होता हैं। लेकिन यह फैट और शुगर फ्री पौधा हैं।

9. स्टीविया पैंक्रियास में इंसुलिन को रिलीज करने का काम करता हैं। जिससे डायबिटीज के मरीजों को फायदा होता हैं।

10. स्टीविया के पौधे को आप घर के गार्डन या गमलों में लगा सकते हैं। स्टीविया का पौधा लगभग 5 सालों तक जीवित रहता हैं। ऐसे में एक बार इस पौधे को लगाने के बाद आप इसका इस्तेमाल 5 वर्षो तक कर सकते हैं।

चेतावनी :- वैसे अगर इसका इस्तेमाल नार्मल तरीके से किया जाये तो यह शरीर के लिए एक दम सेफ हैं। परन्तु दूध पिलाने वाली माओं, प्रेग्नेंट महिलाओं और जो लोग ब्लड प्रेशर या डायबिटीज की दवाई खा रहे हैं, उन्हें इसका सेवन थोड़ी सावधानी के साथ ही करना चाहिए।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...