हरसिंगार के फूल के फायदे और इसके घरेलु नुस्खे और उपाय।

हरसिंगार के फूल के फायदे, घरेलु नुस्खे और उपाय. परिजात के पत्ते के लाभ.

हरसिंगार के फूल सफ़ेद रंग के छोटे आकार के होते हैं। इनकी डंडी संतरी रंग की होती हैं। प्राचीन काल से ही हिन्दू धर्म में हरसिंगार के फूलों को भगवान की पूजा करने में उपयोग किया जाता रहा हैं। हरसिंगार के फूल को परिजात के फूल, गुलजाफरी और Nigh Jasmine के नाम से भी जाना जाता हैं। क्योंकि इसके फूल रात को ही खिलते हैं और सुबह बिखरे नज़र आते हैं।

हरसिंगार का पौधा, इसके पत्ते और फूल सभी हमारी अच्छी सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। यह बहुत ही सुन्दर फूल होते हैं, जिनका उपयोग गजरा बनाने के लिए भी किया जाता हैं। इन फूलों में खुशबूदार तेल भी पाया जाता हैं, जिसका इस्तेमाल ब्यूटी प्रोडक्ट को बनाने के लिए किया जाता हैं। परिजात के पौधे का इस्तेमाल कई तरह की दवाईयां और सौन्दर्य उत्पादों के निर्माण के लिए किया जाता हैं। हरसिंगार के फूल वात-कफ नाशक, ज्वार नाशक, मृदु विरेचक, शामक, उष्णीय और रक्तशोधक माने जाते हैं।

आज के लेख में हम हरसिंगार (परिजात) के फूल के फायदे क्या हैं? हरसिंगार के फूल, पत्ते और पौधे के घरेलु नुस्खे और उपाय। Home remedies & Benefits of Nigh Jasmine Flower in Hindi. Harsingar ke phool ke labh, हरसिंगार (परिजात) के फूल को कैसे उपयोग करे, इसके गुण आदि के बारे में जानेंगे।

हरसिंगार के फूल के फायदे और इसके घरेलु नुस्खे और उपाय :-

सूखी खांसी में फायदेमंद

हरसिंगार के पत्तों को पीसकर शहद के साथ मिलकर लेने से सूखी खांसी से राहत मिलती हैं। इसकी 2 पत्तियों को चाय के साथ उबाल कर पीने से भी खांसी में लाभ मिलता हैं। खांसी के उपचार के लिए एक और कारगर घरेलु उपाय यह हैं की हरसिंगार के 2 पत्ते, 1 फूल और तुलसी के पत्ते को 1 गिलास पानी में उबालिए और इसे चाय की तरह पीजिये। इससे खांसी बहुत जल्दी ठीक हो जाएगी और आपका पेट भी साफ़ हो जायेगा। जी हाँ इस उपाय को करने से पेट में जमा हुआ मल आसानी से बाहर निकल जाता हैं। यह पेट और खांसी दूर करने के लिए बहुत ही अच्छा घरेलु नुस्खा हैं।

दिमाग को शीतलता प्रदान करे

गर्मी के कारण अगर आपको घबराहट हो रही हैं तो हरसिंगार के सफेद फूलो को गुलकंद के साथ मिलाकर खाने से दिमाग शांत होता हैं और मानसिक उन्माद यानि की पागलपन दूर होता हैं। अकसर गर्मी के कारण कई लोगो का दिमाग गर्म या खराब हो जाता हैं। इसके फूल दिमाग को ठण्डा करके उसकी गर्मी को दूर करते हैं।

बुखार दूर करे

हरसिंगार के पत्ते, छाल पुराने से पुराने बुखार को ठीक करने में उपयोगी हैं। इसकी पत्तियों को पीसकर गर्म पानी में उबाल कर पीने से बुखार दूर हो जाता हैं। यह चिकनगुनिया के बुखार से लेकर सभी तरह के बुखार को ठीक करने में मदद करता हैं। अगर आप पुराने बुखार से परेशान रहते हैं तो हरसिंगार की 3 ग्राम छाल, 2 पत्ते और 3-4 तुलसी की पत्तियों को पानी में उबाल कर सुबह शाम पीजिये। इससे आपका बुखार कम होने लगेगा और आपको बुखार से राहत मिलेगी।

यह भी पढ़े :- बुखार को कम करने के आसान घरेलु नुस्खे और उपाय।

मलेरिया का बुखार भी कम करे

हरसिंगार के 7-8 पत्तों के रस में अदरक का रस और शहद मिला कर सुबह शाम पीने से मलेरिया के बुखार में आराम मिलता हैं।

डेंगू बुखार में दर्द को कम करे

डेंगू का बुखार होने के बाद कई बार शरीर में दर्द बना रहता हैं। इसलिए हरसिंगार के पत्तों का काढ़ा बना कर पीने से 10 से 15 दिन में एक तरह जहाँ डेंगू बुखार दूर हो जाता है, वहीँ डेंगू के कारण शरीर में होने वाले दर्द से भी छुटकारा मिलता हैं।

दाद खाज से दिलाये छुटकारा

हारसिंगार के पत्तियों को पीसकर दाद पर लगाने से दाद-खाज, खुजली को ख़त्म किया जा सकता हैं। यह दाद को ठीक करने का बहुत ही आसान और कारगर तरीका हैं।

पेट के कीड़े मारे

हरसिंगार के पत्तों के रस को पानी और चीनी में मिला कर सुबह-शाम खाली पेट लेने से पेट के कीड़े मर जाते हैं। छोटे बच्चों को 1 चम्मच हरसिंगार के पत्तों का रस, जबकि वयस्कों को 2 चम्मच हरसिंगार के पत्तो का रस ही पानी और चीनी के साथ मिला कर लेना चाहिए। इस उपाय को आप पुरे साल किसी भी मौसम में अजमा सकते हैं, इससे पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं और पेट में कीड़े पैदा नहीं हो पाते हैं।

शारीरिक विकास में फायदेमंद

परिजात के फूलो को छाया में सूखाकर इसका पाउडर बना ले और फिर इस पाउडर की थोड़ी सी मात्रा मिश्री के साथ मिला कर खाली पेट लेने से शारीरिक शक्ति का विकास होता हैं।

बवासीर में लाभकारी

हरसिंगार को बवासीर यानि की अर्श के उपचार के लिए बहुत ही उपयोगी माना जाता हैं। इसके 1 बीज को रोजाना खाने से बवासीर रोग ठीक हो जाता हैं। इसके अलावा इसके बीजो का लेप बना कर गुदा पर लगाने से भी बवासीर के मरीज़ को आराम मिलता हैं।

सायटिका में फायदेमंद

हरसिंगार के 250 ग्राम पत्तों को धो कर 1 लीटर पानी में उबालिए। जब पानी लगभग 700 मिली बच जाये तो इसे उतारकर ठंडा करे और फिर इस पानी को छान कर इसके पत्तो को फ़ेंक दे। फिर आप इस छाने हुए पानी में 1-2 रत्ती केसर मिलाए और अच्छी तरह इसे पानी में घोले। अब आप इस पानी को 2 बोतलों में भरे। इस पानी को रोजाना सुबह-शाम 1 कप पीने से सायटिका रोग जल्दी ठीक हो जाता हैं।

अगर आप इस पानी की 4 बोतल पी लेंगे तो सायटिका रोग जड़ से ठीक हो जायेगा। वैसे तो सायटिका के कई मरीजों को इस पानी को पीने से जल्दी से फायदा होने लगता हैं, लेकिन फिर भी आपको इस पानी की 4 बोतलें जरूर पीनी चाहिए। लेकिन इस उपाय को अजमाने से पहले इस बात का ध्यान जरूर रखे की इस उपाय को आप वसंत ऋतू में न अपनाये, क्योंकि वसंत ऋतू में हारसिंगार के पत्ते गुणहीन हो जाते हैं और इस उपाय को करने से सायटिका के मरीज़ को कोई लाभ नहीं हो पाता हैं।

सूजन कम करे

बॉडी के किसी हिस्से में सूजन होने पर इसकी पत्तियों को पानी में उबाल कर इस पानी से सूजन वाले हिस्से को धोने से सूजन कम हो जाती हैं। इसके अलावा सूजन वाली जगह पर इसके पत्तो को गर्म करके बाँधने से भी सूजन से छुटकारा मिलता हैं।

यह भी पढ़े :- शरीर की सूजन दूर करने वाले बेस्ट फूड और घरेलु नुस्खे।

बालों का झड़ना रोके

परिजात के बीजो को पानी के साथ पीसकर सिर में लगाने से बालों का झड़ना रूक जाता हैं और गंजेपन की समस्या को भी दूर किया जा सकता हैं। इसके बीजो को पीसकर गंजेपन वाली जगह पर लगाने से सिर में नए बाल उगने लगते हैं। इसके अलावा यह dandruff और सफेद बालों से भी आपको बचाता हैं।

आर्थराइटिस या जोड़ो के दर्द में फायदेमंद

इस पौधे के 6 से 7 पत्तों को पत्थर पर पीसकर 1 गिलास पानी में उबाले। जब पानी आधा रह जाये तो इस पानी को ठण्डा करके रोजाना सुबह खाली पेट पीजिये। इससे पुराने से पुराना आर्थराइटिस और जोड़ो का दर्द दूर हो जाता हैं। आर्थराइटिस और जोड़ो के दर्द को दूर करने में यह किसी चमत्कारी औषिधि की तरह ही काम करता हैं। लेकिन इसके साथ कोई और दवा नहीं लेनी चाहिए।

त्वचा के इसका तेल हैं फायदेमंद

हारसिंगार का तेल स्किन के लिए बहुत ही फायदेमंद होता हैं। इसके तेल से मालिश करने से स्किन में नमी बरकरार रहती हैं और स्किन में लचीलापन आता हैं।

नोट : चीन और ताईवान जैसे देशो में इसके फूलों और पत्तों की हर्बल चाय को बना कर पिया जाता हैं। इसके 2 पत्तो और 4 फूलों को मिला कर आप 5 कप चाय बना सकते हैं। बिना दूध की बनी यह चाय सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होती हैं। इसके पेड़ अगर घर के आस-पास लगे हो तो इससे एक तो घर में अच्छी सुगंध आती रहती और दुसरा इससे घर की नकारात्मक उर्जा यानि की नेगटिव एनर्जी भी ख़त्म हो जाती हैं। इसलिए प्रकृति की तरफ से मनुष्य को दिए गये इस चमत्कारी और उपयोगी पौधे को अपने घर के आसपास या बगीचों में जरूर लगाना चाहिए।

इसकी मात्रा और उपयोग हर व्यक्ति को उसकी उम्र और दूसरी चीजों को देखकर करना चाहिए। यह बात हमेशा याद रखे की यह जरूरी नहीं हैं की प्रकृतिक चीज़े सेहत के लिए हमेशा सही रहती हैं। इसका इस्तेमाल आप अपनी जरूरत के मुताबिक़ ही करे तो ही बेहतर होगा।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

One thought on “हरसिंगार के फूल के फायदे और इसके घरेलु नुस्खे और उपाय।

Comments are closed.