चांदी से शरीर को होने वाले फायदे और चांदी के कारगर ज्योतिष उपाय।

चांदी के फायदे और इसके उपयोगी ज्योतिष उपाय एवं टोटके.

चांदी एक ऐसी महत्पूर्ण धातु हैं जो हिन्दू धर्म में काफी ज्यादा पवित्र, शुद्ध और असरकारी मानी गयी हैं। वैसे तो चांदी का इस्तेमाल मूर्तियाँ, बर्तन, सिक्के और आभूषण बनाने के लिए किया जाता हैं। चांदी की पायल, अंगूठी, बिछुआ, हार, करधन कई प्रकार के गहने बनाये जाते हैं, जिसे महिलाएं बड़े ही प्रसन्नता के साथ पहनती हैं। चांदी के बारे में यह कहा जाता हैं की इसकी उत्पत्ति भगवान शंकर के नेत्रों से हुई थी। आज के लेख में चांदी के बर्तन में खाना खाने के फायदे, चांदी से जुड़े कुछ उपयोगी ज्योतिष उपाय आदि के बारे बताएँगे, जिससे जीवन की कई प्रकार की परेशानियों को दूर करने में मदद मिलती हैं।

चांदी का इस्तेमाल करके आप अपने जीवन को सुखी और संकटों से मुक्त बना सकते हैं। चांदी के गहने पहनने से मन मजबूत बनता हैं और दिमाग तेज़ होता हैं, साथ ही इससे आपको ख़ुशी भी मिलती हैं। चांदी की अंगूठी या आभूषण को धारण करने से चंद्रमा ग्रह से जुड़ी हुई समस्याओं से छुटकारा पाने में मदद मिलती है। चांदी शुक्र ग्रह को भी मजबूत और प्रसन्न बनाती हैं। चांदी शरीर में जमा toxins को बाहर निकाल कर स्किन को चमकदार भी बनाती हैं। चांदी के फायदे, Health Benefits of Silver in Hindi.

चांदी के बर्तन में भोजन करने के फायदे :-

ऐसी धार्मिक मान्यता हैं की जिस घर में चांदी के बर्तन होते है, उस घर में सभी सुख-समृद्धि, धन-वैभव निवास करते हैं। इसलिए प्राचीन भारतीय घरों में चांदी, पीतल और तांबे के बर्तन होते ही थे। आजकल प्लास्टिक, स्टील और लोहे के बर्तनों ने जगह ले ली हैं। इन धातुओं से बने बर्तन का इस्तेमाल करने से शरीर को नुकसान होता हैं। परन्तु चांदी के बर्तन में भोजन करने से सेहत को ढेर सारे फायदे होते हैं।

चांदी के बर्तन में खाना खाने के फायदे

यही वजह हैं की प्राचीन काल में राजे-महराजे सोने और चांदी के बर्तनों में खाना खाते थे। आज के समय में भी कई विशिष्ट घरों में चांदी के बर्तन में भोजन करने का रिवाज हैं। ऐसे घरों में छोटे बच्चों को चांदी के गिलास में पानी पिलाया जाता हैं, उन्हें चांदी की कटोरी और चांदी के चम्मच से खाना खिलाया जाता हैं। आइये जानते हैं चांदी के बर्तन में खाना क्यों खाना चाहिए? इसके लाभ क्या हैं?

चांदी बैक्टीरिया और इन्फेक्शन से मुक्त होती है। इसलिए इसके बर्तन में भोजन का सेवन करने से आप कई तरह की बिमारियों से बचे रहते हैं और आपका शरीर भी शुद्ध बनता हैं। चांदी को शुद्धता का प्रतीक भी माना जाता हैं।

◄ चांदी की थाली में खाना खाने से दिमाग को फायदा मिलता हैं। इससे याददाश्त तेज़ बनती हैं और दिमाग शांत रहता है। इससे आँखों की प्रॉब्लम्स से भी निजात मिलती है।

◄ चांदी के बर्तन का इस्तेमाल करने का सबसे बड़ा लाभ यह हैं की इससे शरीर में ठंडक बनी रहती हैं। इससे बॉडी का टेम्परेचर कण्ट्रोल में रहता हैं। यही वजह हैं की जिन लोगो को गुस्सा ज्यादा आता हैं, उन्हें चांदी के जेवर, अंगूठी पहनने की सलाह दी जाती हैं, साथ ही उन्हें किसी न किसी रूप से चांदी के समर्पक में रहना चाहिए।

◄ चांदी के गिलास में पानी में पीने से सर्दी-जुकाम की समस्या से छुटकारा मिलता हैं। इसके अलावा चांदी के बर्तन का इस्तेमाल करने से पित्त बढ़ने की समस्या या पित्त दोष को समाप्त करने में मदद मिलती हैं।

◄ जब भी भोजन को गर्म किया जाता हैं तो बर्तन से सम्बन्धित धातु खाने के साथ मिक्स होकर शरीर में दाखिल हो जाते हैं। जब आप चांदी के बर्तन का इस्तेमाल करते हैं तो चांदी के तत्व आपके शरीर में चले जाते हैं, जिससे शरीर को काफी ज्यादा फायदा होता हैं।

◄ सिल्वर स्पून (चांदी के चम्मच) से शहद खाने से शरीर के toxins बाहर निकल जाते हैं। आप चाहे तो चांदी की कटोरी में शहद रख कर खा सकते हैं, इससे भी शरीर के अंदर मौजूद ज़हरीले तत्व बाहर निकल जाते हैं।

चांदी से जुड़े हुए उपयोगी ज्योतिष उपाय और टोटके :-

ज्योतिष में चांदी का विशेष महत्व माना गया हैं। यह चन्द्रमा और शुक्र ग्रह से सम्बंधित धातु है। चांदी शरीर में जल तत्व और कफ को कंट्रोल करती हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चन्द्रमा मन का कारक होता हैं। इसलिए चांदी का प्रयोग करने से मन मजबूत बनता हैं और दिमाग तेज़ होता हैं। चन्द्र ग्रह से जुड़ी हुई समस्याओं और दोषों को दूर करने के लिए चांदी का इस्तेमाल किया जाता हैं। वैसे जिन जातकों का चन्द्रमा कमजोर हैं, उन्हें प्रदोष व्रत और एकादशी व्रत भी रखना चाहिए, इससे भी चन्द्रमा मजबूत बनता हैं।

आइये जानते हैं चांदी के कुछ कारगर ज्योतिष उपाय, जिनसे जीवन से जुड़ी हुई कई प्रकार की समस्याएं दूर हो जाती हैं।

■ विवाह में हो रही देरी के होने पर

लड़की की शादी में देरी हो रही हैं तो शुक्ल पक्ष के पहले सोमवार के दिन सुबह के समय चांदी की एक ठोस गोली चांदी की चेन में पिरोह कर उसे गंगा जल और कच्चे दूध से पवित्र करके धुप दिखाए। इसके पश्चात शिवलिंग से इसे स्पर्श करके गले में पहने। इसके बाद गरीबो में कुछ मिठाईयां बाँट दे। इस उपाय को कुंवारी लड़कीयों को जरूर अजमाना चाहिए। इससे उनके विवाह में आ रही बाधा दूर हो जाती हैं और शीघ्र ही विवाह होता हैं।

तो दूसरी ओर लड़के के विवाह आ रही देरी के निवारण हेतु शुक्ल पक्ष के पहले शुक्रवार के दिन सूर्यास्त होने से पहले मिट्टी के कुल्हड़ में मशरूम पूरी तरह से भर कर ढक्कन लगा दे। फिर इसे किसी मंदिर में दान करदे। इससे लड़के का विवाह जल्दी होता हैं।

■ धन से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए

1)  गुरूवार के दिन चांदी के बर्तन में केसर घोल कर माथे पर तिलक लगाये। इससे घर में सुख-शांति और सम्पन्नता आती हैं।

2) धन से संबंधित परेशानियों को दूर करने के लिए हमेशा चांदी के बर्तन में पानी पीना चाहिए। अगर सिल्वर का गिलास मौजूद न हो तो आम गिलास में पानी भरकर उसके चांदी का सिक्का या अंगूठी डाल कर उस पानी को पीजिये। यह काफी असरदार तांत्रिक उपाय हैं, इससे धन से जुड़ी हुई दिक्कते समाप्त हो जाती है।

3) अर्क की जड़, खैर की जड़, अपामार्ग की जड़, गुलर की जड़, खेजड़े की जड़, पीपल की जड़, दुर्वा और कुशा की जड़ को एक चांदी के डिब्बी में रख कर उसकी रोजाना पूजा करे। इससे जीवन में असफलताओं का सामना नहीं करना पड़ेगा। इससे नवग्रह शांत हो जाते हैं और घर में सुख-सम्पन्नता की वृद्धि होती हैं। धन लक्ष्मी की प्राप्ति के लिए यह काफी कारगर सिद्ध टोटका हैं।

■ धन की कमी दूर करने के लिए

घर की उत्तर-पश्चिम कोण में सुंदर मिट्टी के बर्तन में कुछ सोने-चांदी के सिक्के भर कर, इसे लाल कपड़े से बाँध कर रखे। फिर बर्तन को गेंहू या चावल से पूरी तरह से भर दे। इस उपाय को अजमाने से घर में कभी भी धन की कमी नहीं होती हैं।

■ पैसों की तंगी से छुटकारा पाने के लिए

आप मेहनत भी ज्यादा करते हैं, लेकिन फिर भी आपकी कड़ी मेहनत का फल आपको प्राप्त नहीं हो पा रहा है? साथ ही जीवन में पैसे की तंगी आपको हमेशा परेशान करती रहती हैं तो सोमवार की रात को जब चन्द्रोदय हो जाये, तब पलंग के चारों कोनों में चांदी की कील ठोक दे। चांदी की छोटी-छोटी कीलें भी पलंग में लगाईं जा सकती हैं। यह एक ऐसा तांत्रिक उपाय है, जिसे अजमाने से घर में आ रही पैसे की तंगी तो दूर होती ही है, साथ ही आपकी मेहनत का फल भी आपको आसानी के साथ मिलने लगता हैं।

■ घर में धन टिकता न हो

अगर आपके घर में धन तो आता हैं, लेकिन वह टिकता नहीं हैं तो महीने के पहले प्रथम शुक्रवार के दिन, चांदी की डब्बी में नागकेसर, काली हल्दी और सिन्दूर भर कर माँ लक्ष्मी के चरणों से स्पर्श करवा कर इसे धन रखने वाली जगह पर या तिजोरी में रख दे। इससे घर में धन टिकने लगता हैं।

■ बीमारी से निजात पाने के लिए

अगर कोई बीमारी ठीक नहीं हो रही हैं तो गोमती चक्र लेकर चांदी के तार में पिरोये। इसे पलंग के सिरहाने बाँध दे। ऐसा करने से कुछ ही दिनों में फर्क नज़र आने लगता हैं।

■ कैरियर और शिक्षा के लिए

अगर आप उच्च शिक्षा पाना चाहते हैं और अच्छा कैरियर बनाना चाहते हैं तो चांदी के चोकौर टुकड़े अपने पास हमेशा रखे। अगर बिज़नेस में तरक्की करना चाहते हैं तो चांदी से बनी हुई हाथी की छोटी मूर्ति अपने जेब में रखे।

■ बिज़नेस में वृद्धि के लिए

अगर आपका कारोबार चल नहीं रहा हैं और व्यापार में घाटा हो रहा हैं तो ब्रहस्पतिवार के दिन पीले कपड़े में 11 गोमती चक्र, 11 कौड़ियाँ, काली हल्दी और एक चांदी का सिक्का बाँध कर “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः“ मंत्र का जाप 108 बार करे। फिर इस कपड़े को दूकान या अपने ऑफिस में रख दे।

आप चाहे तो इस उपाय को भी अजमा सकते हैं, इससे भी व्यापार को बढ़ाने में मदद मिलती हैं। इसके लिए चांदी की कटोरी में थोड़ा सा सूखा धनिया रख कर उसमे चांदी से बने लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति रखे और इस कटोरी को दूकान या ऑफिस में पूर्व दिशा में रखकर रोजाना सुबह अगरबती जला कर पूजा करे।

■ राहू-केतु, बुध ग्रह के दोष दूर करने के लिए

अगर कुंडली के पांचवे भाव में राहू का प्रकोप हैं तो इसे कम करने के लिए 200 ग्राम चांदी का हाथी बनवाये और इसे अपने घर में रखे। बुध ग्रह अगर अष्टम भाव में स्तिथ हैं और खराब परिणाम दे रहा है तो चांदी की नथुनी पहननी चाहिए।

केतु अगर खराब स्तिथि में हैं तो इससे बचने के लिए दूध में अंगूठा डाल कर चूसे। सूर्य, चन्द्र से जुड़ी हुई वस्तुएं और सफेद वस्त्र, चांदी और तांबा दान करना चाहिए। भोजन कक्ष बैठकर चांदी की थाली में भोजन करने से राहू शांत होता हैं।

चांदी का इस्तेमाल करने के तरीके :-

1. चांदी की अंगूठी या छल्ला पहनने से चन्द्रमा मजबूत बनता हैं और मन शांत रहता हैं।

2. आप चाहे तो गले में चांदी की चेन भी पहन सकते हैं। गले में चांदी की चेन पहनने से वाणी शुद्ध बनती हैं और हॉर्मोन्स कण्ट्रोल में रहते हैं।

3. चांदी का अंगूठी दायें हाथ की कनिष्ठा ऊँगली में ही पहनना चाहिए। इससे आपको बेहतर परिणाम मिलते हैं।

4. चांदी का कड़ा हाथ में पहनने से वात, पित्त और कफ तीनों कंट्रोल में रहते हैं।

चांदी का इस्तेमाल करते समय ध्यान रखने वाली बातें :-

■ चांदी के बर्तनों का इस्तेमाल करना हो तो उन्हें हमेशा साफ़ करते रहे।

■ चांदी जितनी ज्यादा शुद्ध होगी, यह स्वास्थ्य के लिए उतनी ही ज्यादा फायदेमंद होती है।

■ सोने के अलावा अन्य किसी भी धातु में चांदी को नहीं मिलाना चाहिए। चांदी के साथ सोना मिला कर कुछ खास दशाओं में ही धारण करना चाहिए।

■ अगर आपको भावनात्मक परेशानिया ज्यादा रहती हैं तो चांदी का इस्तेमाल सावधानी के साथ करना चाहिए।

चांदी का राशियों पर प्रभाव :-

कर्क, वृश्चिक और मीन राशि जल तत्व की राशियाँ हैं, अतः इन राशि वाले जातक अगर  चांदी का प्रयोग करते हैं तो इन्हें बहुत ही अच्छे परिणाम प्राप्त होते हैं। जबकि मेष, सिंह और धनु राशि जातकों के लिए चांदी खराब परिणाम देती हैं। बाकी बची राशियों के लिए चांदी से मिलने वाले परिणाम सामान्य होते हैं।




अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

साबूदाना खाने के फायदे और इसे कैसे बनाये?
होम लोन लेते वक़्त याद रखे यह बातें
दुनिया का एकलौता मंदिर जहां राजा राम को दिन में 5 बार दिया जाता है गार्ड ऑफ ऑनर
अनानास खाने के फायदे.
स्ट्रॉबेरी खाने के फायदे जानकर आपको अच्छा लगेगा.
आखिर वकील काला कोट ही क्यों पहनते हैं?
धूप सेंकने के फायदे जरूर पढ़े यह रोचक ज्ञानवर्धक लेख।
बेर खाने से सेहत को होने वाले फायदे के बारे में जानिए।
टमाटर खाने से सेहत को होने वाले लाभ के बारे में जानिए।
संतरा खाने से सेहत को क्या लाभ होते हैं?
दीपावली के दिन करेंगे 22 यह अचूक उपाय तो घर में कभी नहीं होगी धन की कमी।
जानिए गूगल के बारे में रोचक मजेदार जानकारी और तथ्य।
पेचिश की बीमारी से आराम दिलाते हैं यह घरेलु नुस्खे और उपाय।
गुलाब के तेल के फायदे जानिए, खास करके स्किन को होने वाले लाभ।
गार्डन या घर के सामने से घास ख़त्म करने के घरेलु नुस्खे और उपाय।
स्वाइन फ्लू से बचाव करने के उपयोगी तरीके और उपाय जानिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *