छोले (काबुली चना) खाने के फायदे जानिए।

सफेद चना यानी छोले खाने के फायदे जानिए. काबुली चना के फायदे

छोले जिसे काबुली चना या सफेद चना कहा जाता हैं, खाने में बहुत ही ज्यादा स्वादिष्ट होते हैं। वैसे तो सभी लोगो को छोले खाने अच्छे लगते हैं। आज के लेख में हम काबुली चना यानि छोले खाने के फायदे जानेंगे। Health benefits of White Chickpeas/ white gram in Hindi.

छोले सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। इसमें प्रोटीन और फाइबर ज्यादा मात्रा में पाए जाते हैं। जिससे वजन कण्ट्रोल में रहता हैं और साथ ही काबुली चने के सेवन से खूबसूरती भी बढ़ती हैं। आइये जानते हैं काबुली चना खाने के फायदे क्या क्या हैं?

छोले (काबुली/सफ़ेद चना) खाने के फायदे :-

1. आयरन से भरपूर

काबुली चना आयरन से भरपूर होता हैं, जिससे बॉडी को एनर्जी भी ज्यादा प्राप्त होती हैं। इसलिए गर्भवती महिलाएं और स्तनपान करवाने वाली माओं को छोले खाने से काफी ज्यादा फायदा होता हैं।

2. पाचन से जुड़ी समस्याओं को दूर करे

सफेद चने में हाई क्वालिटी का फाइबर होता हैं। जो पाचन से जुड़ी समस्याओं को समाप्त करता हैं, साथ ही आंतो को हेल्दी रखता हैं। छोले में पाए जाने वाले प्रोटीन, विटामिन्स, मिनरल्स और फाइबर आदि कब्ज़ जैसी समस्या होने की सम्भावना को काफी कम कर देते हैं।

3. प्रोटीन का भण्डार

छोले प्रोटीन का बढ़िया स्रोत हैं। काबुली चने में मीट या फिर दुग्ध उत्पाद के जितना प्रोटीन पाया जाता हैं और इसमें कैलोरी और सैचुरेटेड फैट इनके मुकाबले काफी कम होते हैं। यानी की सफेद चना खाने से आप आसानी के साथ हाई क्वालिटी वाले प्रोटीन प्राप्त कर सकते हैं। यह शाकाहारियों के लिए प्रोटीन का बेस्ट सोर्स हैं।

4. ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल में रखे

काबुली चने में ज्यादा मात्रा में पोटैशियम और मैग्नीशियम पाए जाते हैं, जो बॉडी के इलेक्ट्रोलाइट्स का बैलेंस बनाये रखते हैं। इसके अलावा हाइपरटेंशन से जूझे रहे मरीज़ की रक्त वाहिकाओं में बदलाव को उल्ट कर ब्लड प्रेशर को कम कर देते हैं।

जरूर पढ़े :- ब्लड प्रेशर को कण्ट्रोल में रखने के 10 टिप्स।

5. वजन कम करने में मददगार

छोले फाइबर का अच्छा स्रोत हैं। जिससे वजन को आसानी के साथ घटाने में मदद मिलती हैं। इसे खाने से आपको लम्बे समय तक भूख नहीं लगती हैं, जिससे आप बार-बार खाने से बच जाते हैं, रिजल्ट्स के तौर पर आपका वजन नहीं बढ़ता हैं। साथ ही इसमें प्रोटीन भी होता है जो वजन कम करने में सहायता करता हैं।

6. फाइबर से भरपूर

सफेद चने में दुसरे बीन्स की तरह ही घुलनशील और न घुलनशील फाइबर पाए जाते हैं। रिसर्च बताते हैं की जल्दी न घुलने वाले फाइबर यानि रेशे न सिर्फ डाइजेशन सिस्टम को दुरुस्त रखते हैं, बल्कि मोटापा कम करने में भी उपयोगी हैं।

7. महिलाओं के लिए फायदेमंद

काबुली चने में सैपोनियन नामक फाइटोकेमिकल पाया जाता हैं। जो एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता हैं और महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर होने के खतरे को कम कर देता हैं। साथ ही यह Estrogen Hormone का ब्लड लेवल कण्ट्रोल करके ऑस्टियोपोरोसिस की बीमारी होने से भी बचाता हैं।

8. डायबिटीज में फायदेमंद

छोले में कम मात्रा में Glycemic Index होता हैं, जिससे शुगर को कण्ट्रोल करने में मदद मिलती हैं। साथ ही यह रक्त में धीमी गति से ग्लूकोज़ को रिलीज़ करता हैं और ब्लड शुगर लेवल को कण्ट्रोल में रखता हैं। इसके अलावा काबुली चने में घुलनशील फाइबर, प्रोटीन और आयरन भी होते हैं जो शुगर लेवल को कंट्रोल में रखने में मदद करते हैं।

9. झुर्रियां और दाग-धब्बे दूर करे

काबुली चने में पाए जाने वाले तत्व चेहरे की झुर्रियों और दाग-धब्बों को दूर कर देते हैं। इसलिए छोले खाने से चेहरा लम्बी उम्र तक जवां दिखाई देता है।

10. खून की कमी दूर करे

यह आयरन का बढ़िया स्रोत हैं। काबुली चने को खाने से शरीर में हुई खून की कमी यानि एनीमिया की बीमारी को दूर करने में आसानी होती हैं। खास करके प्रेग्नेंट महिला और पीरियड्स के टाइम इसे जरूर खाना चाहिए।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...